ताज़ा खबरेंदिल्लीदेशरोजगार

KVIC ने दिल्ली में चमड़ा कारीगरों के लिए खोला अत्याधुनिक फुटवियर प्रशिक्षण केंद्र-HNA

नई दिल्ली(ओमप्रकाश गंगवाल)|                  खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने चमड़ा कारीगरों को प्रशिक्षित करने के लिए दिल्ली में अपनी तरह के पहले फुटवियर प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन किया। बता दें की इस केंद्र को MSME मंत्रालय की इकाई केंद्रीय फुटवियर प्रशिक्षण संस्थान (CFTI) आगरा के तकनीकी जानकारों के साथ मिलकर स्थापित किया गया है। दिल्ली में गांधीघाट, राजघाट स्थित “KVIC-CFTI  फुटवियर ट्रेनिंग कम प्रोडक्शन सेंटर” उच्च गुणवत्ता वाले फुटवियर बनाने के लिए चमड़ा कारीगरों को 2 महीने का एक व्यापक प्रशिक्षण कार्यक्रम मुहैया करायेगा।

वही KVICके अध्यक्ष VK सक्सेना ने केंद्र का उद्घाटन करते हुए चमड़े के कारीगरों को “चर्म चिकित्सक” (चमड़े का डॉक्टर) कहा। प्रशिक्षण केंद्र प्रशिक्षित कारीगरों को दो महीने की ट्रेनिंग सफलतापूर्वक पूरा होने के बाद अपना खुद का जूता बनाने का व्यवसाय शुरू करने में मदद करेगा। कारीगरों को भविष्य में अपने काम को पूरा करने के लिए 5000 रुपये का टूल किट भी मुहैया कराया जाएगा।

इतना ही नही KVIC-CFTI फुटवियर ट्रेनिंग कम प्रोडक्शन सेंटर की स्थापना दो महीने से भी कम समय के रिकॉर्ड समय में की गई है। हालांकि, लॉकडाउन के कारण उद्घाटन में देरी हुई। अभी शुरुआत में ट्रेनिंग कार्यक्रमों को 40 चमड़े के कारीगरों के एक बैच के लिए डिज़ाइन किया गया था, लेकिन कोरोना संकट के मद्देनजर सोशल डिस्टेसिंग मानदंडों को ध्यान में रखते हुए 20 कारीगरों के एक बैच में ट्रेनिंग दी जाएगी। KVIC वाराणसी में भी इसी तरह का फुटवियर प्रशिक्षण केंद्र स्थापित कर रहा है। साथ ही KVIC के अध्यक्ष ने कहा कि चमड़े के कारीगरों के प्रशिक्षण या ‘चर्म चिकत्सक’ को “सबका साथ, सबका विकास” के प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण के साथ जोड़ दिया गया है।

उन्होंने कहा कि फुटवियर फैशन का एक अभिन्न अंग बन गया है और जूता बनाना अब एक काम नहीं रह गया है। उन्होंने कहा,“इस प्रशिक्षण केंद्र के माध्यम से हम जूता बनाने की गतिविधियों के साथ अधिकतम लोगों को जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। कार्यक्रम को इस तरह तैयार किया गया है कि केवल दो महीने में कारीगर सभी प्रकार के जूते बनाने में सक्षम होंगे।’’ KVIC अध्यक्ष ने कहा कि इससे कारीगरों की आय कई गुना बढ़ जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close