ताज़ा खबरेंदेशप्रदेश

मांडविया ने प्लास्टिक उद्योग और उसके भविष्य पर कोविड-19 के प्रभाव और उसके निहितार्थ पर आयोजित वेबिनार को किया संबोधित-HNA

नई दिल्ली(मंजीत)|              केंद्रीय रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मांडविया ने आश्वासन दिया है कि सरकार कानून के दायरे में प्लास्टिक उद्योग को कोविड​​-19 के प्रभाव से बचाने के लिए जो भी संभव होगा वह करेगी। बता दें की मांडविया “प्लास्टिक उद्योग और उसके भविष्य पर कोविड-19 के प्रभाव और निहितार्थ” पर एक वेबिनार को संबोधित कर रहे थे जिसका आयोजन फिक्की ने रसायन और पेट्रो रसायन विभाग, CIPET और प्लास्टइंडिया फाउंडेशन के सहयोग से किया था। वही मांडविया ने कहा कि रसायन और पेट्रो रसायन क्षेत्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था की परिकल्पना का एक महत्वपूर्ण घटक है। यह क्षेत्र औद्योगिक विकास का मुख्य आधार है और कई उद्योगों के लिए बिल्डिंग ब्लॉक प्रदान करता है। उन्होंने बताया कि यह क्षेत्र आत्मानिर्भर भारत की प्रधानमंत्री की परिकल्पना को भी साकार करने में योगदान दे रहा है। साथ ही मांडविया ने कहा कि भारतीय प्लास्टिक उद्योग को दुनिया में पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊ, अभिनव और प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए हमें उन चुनौतियों को स्वीकार और परिभाषित करना होगा जो आगे आने वाले समय में हमारे सामने खड़ी होंगी। उन्होंने कहा कि हम अच्छी तरह जानते हैं कि प्लास्टिक उद्योग आज ज़रूरत के समय में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है, क्योंकि इसके उत्पाद कोविड-19 से संघर्ष में लगे फ्रंटलाइन योद्धाओं की कोशिशों में काफी मदद कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का अनुमान है कि कोविड-19 के खत्म होने तक इसके खिलाफ संघर्ष में हर महीने 89 मिलियन मेडिकल मास्क, 76 मिलियन परीक्षण दस्ताने और 1.6 मिलियन काले चश्मे की आवश्यकता होगी। इसलिए, इससे संकेत मिलता है कि भारत को कोरोना वायरस से मुक्त करना सुनिश्चित करने के लिए प्लास्टिक उद्योग को आगे बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हम आंतरिक अवरोध या प्रतिस्पर्धी असंतुलन पैदा करके आंतरिक बाजार को विखंडित नहीं करना चाहते हैं बल्कि हमें एक राष्ट्र और शक्ति के रूप में एक साथ जुड़ना होगा।

रसायन एवं पेट्रो रसायन सचिव राजेश कुमार चतुर्वेदी ने वेबिनार को संबोधित करते हुए कहा कि इस महामारी से प्लास्टिक की वास्तविक क्षमता का पता चला है। कोविड महामारी के दौरान खतरनाक सामग्री वाले सूट, एन-95 मास्क, दस्ताने, टोपी (विजर्स), काले चश्मे, जूते के कवर की मांग के कारण इसका महत्व कई गुना बढ़ गया है क्योंकि ये सभी पॉलीप्रोपाइलीन / प्लास्टिक से बनते हैं। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक उद्योग आर्थिक विकास और मोटर वाहन, निर्माण, इलेक्ट्रॉनिक्स, स्वास्थ्य देखभाल, कपड़ा और FMCG आदि जैसे देश के विभिन्न प्रमुख क्षेत्रों के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है। उन्होंने उद्योग से अनुसंधान एवं विकास (R&D) पारिस्थितिकी तंत्र विकसित करने की दिशा में काम करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि चुनौतियों के संदर्भ में, DCPC ने कोविड-19 की वजह से प्लास्टिक उद्योग के सामने मौजूद मुख्य मुद्दों को स्वीकार किया है और यह उम्मीद है कि सभी के सहयोग और इस मंच के माध्यम से विचार-विमर्श के साथ हमारा विभाग उद्योग की मौजूदा चुनौतियों से निपटने की स्थिति में होगा।

वही इस अवसर परसंयुक्त सचिव (पेट्रो-रसायन) काशी नाथ झा, CIPET के महानिदेशक प्रो. एस. के. नायक और सरकार के कई वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close