ताज़ा खबरेंदेशव्यापार

भारत में व्यापार अवसरों का पता लगाने के लिए NTPC और NIIF के बीच समझौता-HNA

नई दिल्ली(संजना)|             NTPC लिमिटेड, ऊर्जा मंत्रालय के अंतर्गत आने वाली केंद्रीय PSU और देश की सबसे बड़ी बिजली उत्पादन कंपनी, की ओर से जारी बयान के अनुसार, इसने राष्ट्रीय निवेश एवं अवसंरचना कोष (NIIF) के साथ एक समझौता ज्ञापन (MOU) पर हस्ताक्षर किया है, जो राष्ट्रीय निवेश एवं अवसंरचना कोष लिमिटेड (NIIFL) के माध्यम से काम करता है, जिससे भारत में आपसी हितों वाले क्षेत्रों में निवेश के अवसरों का पता लगाया जा सके जैसे कि नवीकरणीय ऊर्जा, बिजली वितरण आदि। वही इस MOU पर CMD, NTPC, गुरदीप सिंह और प्रबंध निदेशक और CEO, NIIFL, सुजॉय बोस की मौजूदगी में हस्ताक्षर किए गए। इस अवसर पर NTPC के निदेशक (वाणिज्यिक), एके गुप्ता, कार्यकारी निदेशक – प्रत्यक्ष निवेश, NIIFL, एके गौतम, निदेशक, NTPC, विनोद गिरि, प्रबंधन साझेदार, NIIFL मास्टर फंड और दोनों संगठनों के अन्य वरिष्ठ गणमान्य लोग भी उपस्थित थे। इस MOU पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से, GM (बीडी-डोमेस्टिक), NTPC, श्रीमती संगीता कौशिक और कार्यकारी निदेशक एवं मुख्य परिचालन अधिकारी, NIIFL, श्री राजीव धर के बीच हस्ताक्षर किए गए।

बता दें की इस MOU के माध्यम से, NTPC और NIIFL का उद्देश्य देश में चिरस्थायी और मजबूत ऊर्जा अवसंरचना का निर्माण करने वाले भारत के दृष्टिकोण में सहयोग प्रदान करना है। इस साझेदारी का उद्देश्य, NTPC की तकनीकी विशेषज्ञता और NIIF की पूंजी जुटाने वाली क्षमता को एक साथ लाना और अग्रणी खिलाड़ियों के साथ अपने मौजूदा संबंधों का लाभ उठाकर वैश्विक सर्वोत्तम प्रथाओं की प्राप्ति करना है। 62,110 मेगावाट की कुल स्थापित क्षमता के साथ, NTPC समूह के पास 70 पावर स्टेशन हैं, जिनमें 24 कोयला, 7 संयुक्त चक्र गैस/ तरल ईंधन, 1 हाइड्रो, 13 नवीकरणीय और 25 सहायक एवं जेवी पावर स्टेशन शामिल हैं।

दरअसल NTPC का लक्ष्य 2032 तक अपनी कुल बिजली उत्पादन क्षमता में लगभग 30 गीगावाट हिस्सा नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों के माध्यम से प्राप्त करना है। NIIFL लिमिटेड अपने तीन फंडों – मास्टर फंड, फंड ऑफ फंड्स और स्ट्रैटेजिक अपॉर्च्युनिटीज फंड में 4.3 बिलियन अमेरिकी डॉलर से ज्यादा इक्विटी पूंजी प्रतिबद्धताओं का प्रबंधन करता है, प्रत्येक में अपनी अलग-अलग निवेश रणनीति के साथ। NIIFL, अंतरराष्ट्रीय और भारतीय निवेशकों के लिए एक सहयोगी निवेश प्लेटफॉर्म है, जिसे भारत सरकार द्वारा आश्रय प्रदान किया गया है। NIIFL, अपने निवेशकों के लिए आकर्षक जोखिम-समायोजित रिटर्न का निर्माण करने के उद्देश्य से भारत की परिसंपत्तियों में निवेश करता है जैसे कि बुनियादी ढ़ांचा, निजी इक्विटी और अन्य विविध क्षेत्र। NIIFL मास्टर फंड देश का सबसे बड़ा बुनियादी ढ़ांचा वाला फंड है और परिवहन और उर्जा जैसे मुख्य बुनियादी ढ़ांचा वाले क्षेत्रों में निवेश करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close